Thursday, July 25
Shadow

यमुना घाटी को हर्बल आयुर्वेदिक घाटी बनाना प्रोजेक्ट आत्मनिर्भर सोसायटी की सराहनीय पहल=अतोल रावत

अमर हिंदुस्तान

बडकोट । पिछले कई वर्षों से यमुना को प्रदूषण से मुक्त कराने सहित यमुना अब आत्मनिर्भर हो रही है। प्रोजेक्ट आत्म निर्भर के संस्थापक इग्लेण्ड में पढ़े युवा उद्योगपति रंजीत चतुर्वेदी का भी यही एक प्रयास है। रविवार को बडकोट के नादानी फार्म में इनकी संस्था के द्वारा यमुना घाटी के यमुनोत्री से विकास नगर तक सैकड़ो महिलाओं को हर्बल आयुर्वेदिक संबंधी पौधे की उपजाऊ जानकारी दी गयी ।जिससे यमुना घाटी की महिलाओं को हर्बल आयुर्वेद से पौधों की खेती करके महिलाओं को रोजगार तथा आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जाएगा । कार्यक्रम में पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अतोल रावत ने कहा है प्रोजेक्ट आत्मनिर्भर द्वारा यमुना घाटी क्षेत्र में महिलाओं को हर्बल आयुर्वेद से जुड़ी पेड़ पौधों की खेती का प्रशिक्षण देना संस्था की सराहनीय पहल है निश्चित ही इस संस्था द्वारा की महिलाओं के लिए स्वरोजगार का नया आयाम पैदा होगा तथा यमुना घाटी की महिलाएं स्वरोजगार के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेगी । संस्था के संस्थापक रंजीत चतुर्वेदी ने यमुनोत्रीधाम से मथुरा तक स्थानीय संस्थाओं का सहयोग लेकर उन्होंने 620 कि.मी. पैदल कलश यात्रा निकल गई थी । और आज भी उनकी संस्था यमुना के उद्गम स्थल यमुनोत्री से लेकर मथुरा तक यमुना को स्वच्छ एवं यमुना की पवित्रता बनाने को लेकर लगातार प्रयास रत हैं । इस अवसर पर विभिन्न स्वयं सहायता समूह सहित सैकड़ो की संख्या में महिलाये उपस्थित रही ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *