Thursday, July 25
Shadow

स्वास्थ्य

जन्माष्टमी पर भोग में चढ़ता है माखन-मिश्री, जानें सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है ये Food Combination

जन्माष्टमी पर भोग में चढ़ता है माखन-मिश्री, जानें सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है ये Food Combination

स्वास्थ्य
माखन मिश्री खाने के फायदे: बचपन से हम लोग सुनते और देखते आए हैं कि लोग माखन मिश्री, जन्माष्टमी पर भगवान श्रीकृष्ण को चढ़ाते हैं और खुद भी खाते हैं। आइए, जानते हैं इस फूड कॉम्बिनेशन के फायदे। माखन मिश्री खाने के फायदे: जन्माष्टमी आ रही है और लोग तरह-तरह के भोग और पकवानों की तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में भगवान श्रीकृष्ण का नाम आते ही सबसे पहले दिमाग में उनका भोग, माखन मिश्री आता है। भारत में आपको नॉर्मली ये दोनों ही चीजें कई जगहों पर खाने को मिल जाएंगी। पर कभी आपने सोचा है कि ये दोनों फूड कॉम्बिनेशन सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है। तो, आपको बता दें कि माखन, जिसे मक्खन कहते हैं ये असल में ओमेगा 3 और कुछ हेल्दी फैट से भरपूर है। तो, मिश्री में हीलिंग गुण है जो कि डाइजेशन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा इन दोनों का एक सेवन आपको सेहत से जुड़ी कई समस्याओं से बचाने में मदद कर सकता है। माखन ...
3 तरह का होता है डेंगू, सिर्फ प्लेटलेट्स की कमी ही नहीं इन लक्षणों से भी करें पहचान

3 तरह का होता है डेंगू, सिर्फ प्लेटलेट्स की कमी ही नहीं इन लक्षणों से भी करें पहचान

स्वास्थ्य
डेंगू के प्रकार: कई राज्यों में डेंगू की बीमारी फैली हुई है। स्थिति ऐसी है कि आस-पास के अस्पतालों में डेंगू के मरीज आपको एक बड़ी संख्या मिल जाएंगे। ऐसे में बचाव के तमाम तरीकों को अपनाने से ज्यादा जरूरी है इस बीमारी की पहचान करना। जैसे कि ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम की डेंगू में सिर्फ जोड़ों में दर्द, तेज बुखार और प्लेटलेट्स की कमी के अलावा भी कई प्रकार के लक्षण नजर आते हैं। इसके अलावा ये लक्षण डेंगू के अलग-अलग प्रकारों से जुड़े रहते हैं। तो, जानते हैं डेंगू के प्रकार और साथ ही इसके अलग-अलग लक्षण। डेंगू के प्रकार और इसकी पहचान कैसे करें-Dengue types and symptoms in hindi 1. नार्मल डेंगू बुखार-Mild Dengue Fever नॉर्मल डेंगू वाला बुखार ज्यादातर लोगों को होता है। इसमें प्लेटलेट्स की कमी होती है पर ये बहुत गंभीर नहीं होता। इसमें  शरीर में तेज दर्द होता है और इसी के साथ व्यक्ति को बुखार आता है।...
सुबह भरपेट नाश्ता करने से कई बीमारियों का जोखिम होता है कम, जानें सेहत को होने वाले लाभ

सुबह भरपेट नाश्ता करने से कई बीमारियों का जोखिम होता है कम, जानें सेहत को होने वाले लाभ

स्वास्थ्य
सेहत के लिए सुबह का नाश्ता बहुत जरूरी है। पौष्टिक आहार शरीर के लिए जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी समय पर खाद्य पदार्थों का सेवन भी है। सुबह दफ्तर की भाग दौड़ में अक्सर लोग नाश्ता करना भूल जाते हैं। कई लोगों को सुबह नाश्ता करने की आदत ही नहीं होती। ऐसे में व्यस्त लाइफस्टाइल और सही खान पान न होने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है। अक्सर घर के बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि सुबह का नाश्ता बहुत जरूरी होता है। घर से कुछ खाकर ही निकलना चाहिए। लेकिन सुबह नाश्ता करना क्यों जरूरी है या घर से खाकर निकलने के पीछे की वजह क्या है, इस बारे में लोग सही सही नहीं जानते। चलिए जानते हैं कि सुबह भरपेट नाश्ता करने का क्या लाभ हैं। सुबह नाश्ता करने के लाभ स्वस्थ हृदय के लिए  अध्ययन के मुताबिक, नाश्ता नहीं करने से आपका वजन अधिक हो सकता है। वजन बढ़ने से उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप की समस्या हो सकती है, जो हृदय रोग का ...
कोलेस्ट्रॉल फ्री हैं ये चीजें, खाने की थाली में करें शामिल हार्ट रहेगा स्वस्थ

कोलेस्ट्रॉल फ्री हैं ये चीजें, खाने की थाली में करें शामिल हार्ट रहेगा स्वस्थ

स्वास्थ्य
हार्वर्ड हेल्थ की रिपोर्ट के मुताबिक विभिन्न खाद्य पदार्थ आपको शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मददगार हो सकते हैं। घुलनशील फाइबर वाली चीजें न सिर्फ पाचन स्वास्थ्य को ठीक रखने में मदद करती हैं, साथ ही कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकने में भी इससे लाभ मिल सकता है। प्लांट बेस्ड खाद्य पदार्थों से शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त किए जा सकते हैं साथ ही यह आपके हार्ट और नसों को स्वस्थ रखने के लिए भी मददगार हो सकती है। आइए जानते हैं इसके लिए किन चीजों का सेवन किया जाना लाभकारी माना जाता है? शरीर को स्वस्थ रखने, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर जैसी समस्याओं के जोखिम को कम करने के लिए जरूरी है कि आप खाने के लिए स्वस्थ तेलों का चयन करें। मक्खन और रिफाइंड तेल सेहत के लिए कई प्रकार से हानिकारक हो सकते हैं और इससे रक्त में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का भी खतरा होता है। कैनोला, सूरजमुखी, ऑलिव ऑयल जैसे तेलो...
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देष पर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की डेंगू रोगियों के उपचार व उचित देखभाल के लिए गाइडलान जारी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देष पर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की डेंगू रोगियों के उपचार व उचित देखभाल के लिए गाइडलान जारी

स्वास्थ्य
डेंगू रोकथाम को कई बड़े फैसलों पर लगी मुहर, जिला क्षय रोग अधिकारियों को जिला नोडल अधिकारी बनाने का शासनादेश हुआ जारी देहरादून। राज्य में डेंगू रोग संक्रमण रोकने लिए मुख्यमंत्री पुश्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई बैठकों के सकारात्मक परिणाम दिखने लगे हैं। इसी कड़ी में राज्य स्वास्थ्य विभाग ने आज माननीय मुख्यमंत्री पुश्कर सिंह धामी के निर्देष पर डेंगू रोगियों के बेहत्तर इलाज व देखभाल के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी कर दी है। माननीय मुख्यमंत्री पुश्कर सिंह धामी के आदेश पर राज्य सचिवालय में सचिव स्वास्थ्य डॉ आर राजेष कुमार द्वारा सभी जिलों के साथ डेंगू नियंत्रण हेतु समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। वर्चुवल बैठक में जिलाधिकारी देहरादून सोनिका, निदेषक चिकित्सा षिक्षा आषुतोश सयाना सहित सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी, मेडिकल कॉलेजों के प्रतिनिधियों ने डेंगू उन्मूलन अपने वि...
डेंगू कंट्रोल रूम के माध्यम से दिया जा रहा चिकित्सा संबंधी परामर्श

डेंगू कंट्रोल रूम के माध्यम से दिया जा रहा चिकित्सा संबंधी परामर्श

स्वास्थ्य
देहरादून। जिलाधिकारी सोनिका के निर्देशन पर स्थापित डेंगू कंट्रोलरूम के माध्यम से जनमानस की शिकायतों, समस्याओं के निस्तारण के साथ ही चिकित्सा संबंधी परामर्श एवं फॉगिंग, बेड, प्लेटलेट्स उपलब्ध कराने में सहायता की जा रही है। सेंटर में डोनर्स में तैयार की लिस्ट द्वारा, कपबबब सेंटर से डॉक्टर्स द्वारा डोनर्स को कॉल कर काउंसलिंग की गई, जिसके परिणाम स्वरूप प्लेटलेट्स की ज़रूरत होने पर आज अलग अलग ब्लड ग्रुप के 22 लोगों को डोनर्स उपलब्ध करवाये गये, जिससे 22 डेंगू मरीज़ों को प्लेटलेट्स मिल पायी। ज़िला प्रशासन की इस मुहिम में कुछ एनजीओ भी आगे आये जिनमें से एक लक्ष्य एनजीओ चलाने वाले केदार जोशी जी द्वारा भी डोनर्स उपलब्ध कराये गये। जिलाधिकारी सोनिका ने डेंगू नियंत्रण हेतु  डोनर्स  उपलब्ध कराकर सहयोग करने हेतु लक्ष्य एनजीओ का आभार व्यक्त किया साथ ही अन्य एनजीओ से इस पुनीत कार्य में  जुड़ने का आह्वान कि...
PCOS Awareness Month: पीसीओएस का शिकार महिलाओं के लिए भारी पड़ सकता है इन फूड्स को खाना, आज ही बनाएं दूरी

PCOS Awareness Month: पीसीओएस का शिकार महिलाओं के लिए भारी पड़ सकता है इन फूड्स को खाना, आज ही बनाएं दूरी

स्वास्थ्य
PCOS Awareness Month पीसीओएस जिसे पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम भी कहा जाता है महिलाओं में होने वाली एक गंभीर समस्या है जिससे लगभग कई महिलाएं प्रभावित होती हैं। यह वजह है कि इस समस्या के प्रति जागरूकता फैलाने के मकसद से हर साल सितंबर में पीसीओएस जागरूकता माह मनाया जाता है। आज जानेंगे उन फूड आइटम्स के बारे में जिनका सेवन पीसीओएसमें नहीं करना चाहिए। PCOS Awareness Month: पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, जिसे आमतौर पर पीसीओएस के नाम से भी जाना जाता है, महिलाओं में होने वाली एक गंभीर समस्या है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, दुनिया भर में प्रजनन आयु की अनुमानित 8-13% महिलाएं पीसीओएस से प्रभावित हैं। ऐसे में इस समस्या के प्रति जागरूकता फैलाने के मकसद से हर साल सितंबर में पीसीओएस जागरूकता माह मनाया जाता है। इसी क्रम में आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे फूड आइटम्स के बारे में, जिनसे पीसीओएस के दौरान परहेज...
वेट लॉस से लेकर कैंसर से बचाने तक, चेरी टमाटर खाने से दूर हो सकते हैं शरीर के ये गंभीर रोग

वेट लॉस से लेकर कैंसर से बचाने तक, चेरी टमाटर खाने से दूर हो सकते हैं शरीर के ये गंभीर रोग

स्वास्थ्य
चेरी टमाटर बड़े टमाटर की तुलना में थोड़े छोटे और स्वाद में मीठे होते हैं. कई लोग इन्हें सलाद और अलग-अलग पकवानों में शामिल करना पसंद करते हैं. चेरी टमाटर में फ्लेवोनोइड, कैरोटीनॉयड और फेनोलिक कंपाउंड्स जैसे एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं. ये विटामिन C और बाकी जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर भी होते हैं. कई लोग अपने आहार में इन टमाटरों को खासतौर से शामिल करते हैं. चेटी टमाटर में चूंकि लाइकोपीन जैसा कैरोटीनॉयड पाया जाता है, इसलिए इन्हें खाने से दिल से जुड़ी समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है. अगर आप कुछ हेल्दी खाकर अपना वजन कम करना चाहते हैं तो चेरी टमाटर को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं. क्योंकि इनमें कैलोरी की मात्रा कम होती है. हाई ब्लड प्रेशर के मरीज भी बेझिझक चेरी टमाटर का सेवन कर सकते हैं. क्योंकि इनमें पोटेशियम की अच्छी खासी मात्रा पाई जाती है. चेरी टमाटर...
आयुष एवं वेलनेस का हब बनेगा उत्तराखंड, नई आयुष नीति से बढ़ेगा रोजगार…

आयुष एवं वेलनेस का हब बनेगा उत्तराखंड, नई आयुष नीति से बढ़ेगा रोजगार…

स्वास्थ्य
भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड के अध्यक्ष डा जे एन नौटियाल ने कहा कि उत्तराखंड सरकार द्वारा आयुष नीति 2023 को कैबिनेट द्वारा पारित किए जाने से राज्य में आयुष एवं वेलनेस में अधिक निवेश होने से राज्य में रोजगार के काफी अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि आयुष नीति राज्य के भौगोलिक परिस्थितियों के अनुकूल एवम रोजगार परक बनाई गई है इस नीति में जड़ी बूटियों के कृषिकरण, औषधियों के निर्माण एवम नए आयुष पंचकर्म खोलने पर औद्योगिक नीति में मिलने वाली वाली राजसहायता के अतिरिक्त आयुष विभाग भी अतिरिक्त राज सहायता प्रदान करेगा। आयुष शिक्षण संस्थाओं की नैक ग्रेडिंग की अनिवार्यता से आयुष शिक्षा का स्तर बढ़ेगा अधिक एनएबीएच मान्यता प्राप्त आयुष वेलनेस हॉस्पिटल खुलने से स्थानीय लोगों एवम देशी विदेशी पर्यटकों को मानक आयुष चिकत्सा उपलब्ध हो सकेगी। भारतीय चिकत्सा परिषद उत्तराखंड के अध्यक्ष डा जे एन नौटियाल ने राज्य मे...
स्वास्थ्य सचिव ने डेंगू कंट्रोल रूम का किया औचक निरीक्षण, लापरवाही पर लगाई अधिकारियों को फटकार

स्वास्थ्य सचिव ने डेंगू कंट्रोल रूम का किया औचक निरीक्षण, लापरवाही पर लगाई अधिकारियों को फटकार

स्वास्थ्य
देहरादून। डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच शासन-प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है। स्वास्थ्य सचिव डॉ आर राजेश कुमार समीक्षा बैठकों के साथ ही ग्रांउड जीरो पर जाकर अस्पतालों में हालातों का जायजा ले रहे हैं। आज रविवार को छुट्टी के दिन भी स्वास्थ्य सचिव पूरी तरह से मुस्तैद नजर आये। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ कोरोनेशन-गांधी जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया। जिला अस्पताल में इमरजेंसी की व्यवस्थाओं पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की। वहीं सेंट्रल पैथोलॉजी के बंद हाने पर उन्होंने अधिकारियों को फटकार लगाते हुए पैथोलॉजी को व्यवस्थित तरीके से प्रतिदिन खोलने के निर्देश दिये। उन्होंने निर्देश दिये कि रात्रि ८ बजे तक मरीजों की ब्लड सैंपल रिपोर्ट ली जाये। वहीं उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों और उनके तीमारदारों से अस्पताल में मिल रहे इलाज और सुविधाओं को लेकर भी बात की। इलाज को लेकर मरीजों की विभिन्न शिक...