Wednesday, July 24
Shadow

नोवाक जोकोविच ने 92वां टूर खिताब जीता, फाइनल में सेबेस्टियन को दी मात

जोकोविच इस सप्ताह कोई मैच नहीं हारे थे, लेकिन फाइनल मुकाबले में उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। सेबेस्टियन के खिलाफ पहला सेट उन्होंने 6-7 के अंतर से गंवा दिया। हालांकि, बाकी दोनों सेट उन्होंने 7-6 और 6-4 के अंतर से अपने नाम किए और 92वां टूर खिताब जीता।

ऑस्ट्रेलियन ओपन से पहले नोवाक जोकोविच ने अपने करियर का 92वां टूर खिताब खिताब जीतकर सभी को चेतावनी दे दी है। उन्होंने एडिलेड इंटरनेशनल टाइटल के फाइनल में अमेरिका के सेबेस्टियन कोर्डा को 6-7 (8), 7-6 (3), 6-4 के अंतर से हराया। इस सप्ताह जोकोविच शानदार फॉर्म में थे और कोई मैच नहीं हारे थे, लेकिन फाइनल में वह शुरुआत में संघर्ष करते दिखे।

खिताबी मुकाबले में जोकोविच ने पहला सेट 6-7 के अंतर से गंवा दिया। हालांकि, बाकी दोनों सेट उन्होंने 7-6 और 6-4 के अंतर से अपने नाम किए और 92वां टूर खिताब जीता।

इस जीत के बाद जोकोविच ने कहा “यह एक अद्भुत सप्ताह रहा है और आप लोगों ने इसे और भी खास बना दिया है। मेरे लिए यहां खड़ा होना एक उपहार है। मैंने आज और पूरे सप्ताह यह किया ताकि ट्रॉफी हासिल कर सकूं। पिछले 10 दिनों में मुझे जो समर्थन मिल रहा है वह कुछ ऐसा है जो मुझे नहीं लगता कि मैंने अपने जीवन में कई बार अनुभव किया है, इसलिए हर एक मैच में समर्थन के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।”

जिमी कोनर्स (109), रोजर फेडरर (103) और इवान लेंडल (103) के बाद, 35 वर्षीय जोकोविच वर्तमान में ओपन एरा में (94) चौथे सबसे अधिक पुरुष एकल खिताब जीतने के मामले में राफेल नडाल के साथ बराबरी पर हैं। 2019 की शुरुआत के बाद से, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में 34 सीधे गेम जीते हैं और कुल मिलाकर अपने पिछले 24 मैचों में से 23 जीते हैं।

शनिवार को इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जोकोविच ने डेनियल मेदवेदेव को हराया था। इस दौरान उनके बाएं पैर की उंगली भी चोटिल हुई थी। हालांकि, फाइनल के दौरान यह चोट उनके लिए परेशानी नहीं बनी।

इस मैच का पहला सेट जीतने के बाद कोर्डा अपने करियर की सबसे बड़ी जीत हासिल करने के करीब थे। दूसरे सेट में दोनों खिलाड़ियों के बीच कांटे की टक्कर थी। दूसरे सेट में जब जोकोविच ने 5-6, 30/40 पर सर्विस की तब कोर्डा को सिर्फ एक अच्छे शॉट की जरूरत थी और वह खिताब के साथ-साथ जोकोविच जैसे दिग्गज को हराने का गौरव हासिल करते, लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाए और फिर जोकोविच ने उन्हें वापसी का कोई मौका नहीं दिया।

एटीपी रैंकिंग में 33वें नंबर के कोर्डा ने तीसरे सेट में भी काफी संघर्ष किया, लेकिन जोकोविच से पार पाना आसान नहीं था, क्योंकि वह अपनी लय में आ चुके थे।

मैच के बाद जोकोविच ने भी कोर्डा की तारीफ की। उन्होंने कहा “अद्भुत टूर्नामेंट, अद्भुत प्रयास। मैं शायद कहूंगा कि आज आप मेरी तुलना में जीत के करीब थे। यह एक या दो शॉट, एक या दो अंक में तय किया गया था। आज किस्मत आपके साथ नहीं थी, लेकिन भविष्य आपके लिए उज्ज्वल है। तो बस लगे रहो, और तुम एक अद्भुत खिलाड़ी हो। शाबाश।”