Tuesday, July 23
Shadow

कनाडा ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए राजपक्षे बंधुओं सहित श्रीलंकाई अधिकारियों पर लगाया प्रतिबंध

कनाडा ने श्रीलंका में सशस्त्र संघर्ष के दौरान “मानव अधिकारों के घोर उल्लंघन के लिए पूर्व राष्ट्रपतियों गोटबाया राजपक्षे और महिंदा राजपक्षे सहित श्रीलंका के चार राज्य अधिकारियों के खिलाफ प्रतिबंध लगाए हैं। राजपक्षे बंधुओं के साथ, स्टाफ सार्जेंट सुनील रत्नायके और लेफ्टिनेंट कमांडर चंदना पी हेत्तियाराच्चिठे पर भी प्रतिबंध लगाए जा रहे थे। कनाडा के विदेश मामलों के मंत्री , मेलानी जोली ने मंगलवार को घोषणा की कि देश ने श्रीलंका में सशस्त्र संघर्ष के दौरान मानवाधिकारों के घोर उल्लंघन के लिए जिम्मेदार चार श्रीलंकाई राज्य अधिकारियों के खिलाफ विशेष आर्थिक उपाय अधिनियम के तहत प्रतिबंध लगाए हैं।

विशेष आर्थिक उपाय अधिनियम के अनुसार इन सूचीबद्ध व्यक्तियों पर एक व्यवहार निषेध लागू करते हैं, जो कनाडा में उनके पास मौजूद किसी भी संपत्ति को प्रभावी रूप से जब्त कर सकता है और उन्हें आप्रवासन और शरणार्थी के तहत कनाडा के लिए अस्वीकार्य बना देगा।

कनाडा, श्रीलंका में आर्थिक सुधारों के प्रयासों का समर्थन करता हैं

आधिकारिक समाचार विज्ञप्ति के अनुसार, कनाडा श्रीलंका में मानवाधिकारों और जवाबदेही की वकालत करने के लिए प्रासंगिक बहुपक्षीय निकायों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ सहयोग करना जारी रखेगा, जो देश के लिए एक सुरक्षित, शांतिपूर्ण और समावेशी भविष्य हासिल करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। कनाडा, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में श्रीलंका पर कोर ग्रुप के हिस्से के रूप में, संकल्प 51/1 के पूर्ण कार्यान्वयन की वकालत करना जारी रखेगा और द्वीप पर जवाबदेही और शांति प्राप्त करने के प्रयासों का समर्थन करेगा। इसके अलावा, कनाडा श्रीलंका में लोगों के सामने आने वाली कठिनाइयों को कम करने के लिए तत्काल राजनीतिक और आर्थिक सुधारों के प्रयासों का समर्थन करता है।

कनाडा ने अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दंड-मुक्ति को समाप्त करने के लिए आज निर्णायक कार्रवाई की है। कनाडा के विदेश मंत्री , मेलानी जोली ने कहा , “घरेलू संकट को दूर करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहायता सहित उत्तरदायित्व, सुलह और मानवाधिकारों की उन्नति के माध्यम से श्रीलंका की शांति, समावेश और समृद्धि के मार्ग का समर्थन करने के लिए हम तैयार है।

“श्रीलंका में तत्काल जरूरतों को पूरा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र और इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ रेड क्रॉस और रेड क्रीसेंट सोसाइटीज द्वारा शुरू की गई अपीलों के लिए भी हम तैयार हैं क्योंकि देश एक गंभीर मानवीय संकट से गुजर रहा है।

जोली ने कहा, खाद्य सुरक्षा और आजीविका जैसे मुद्दों को संबोधित करने के लिए धन आवंटित किया जाएगा। आश्रय और गैर-खाद्य पदार्थ, साथ ही कमजोर बच्चों और महिलाओं के लिए पोषण संबंधी सहायता और प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाएगी। कनाडाआधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आवश्यक चिकित्सा उपकरणों और आपूर्ति की खरीद के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन को सहायता प्रदान करते हुए परियोजनाओं को भी फिर से समायोजित किया जाएगा।